Learn Sanskrit Atmanepadi Verb 1 | संस्कृत आत्मनेपदी धातु 35

संस्कृत भाषा में तीन प्रकार की धातुएँ पाई जाती हैं। परस्मैपदी, आत्मनेपदी और उभयपदी धातुएँ। यह पाठ संस्कृत व्याकरण के अंतर्गत संस्कृत भाषा की आत्मनेपदी धातुएँ – इस विषय पर प्रकाश डालता है। हम आत्मनेपदी धातुओं का परिचय लेंगे। आत्मनेपदी धातुओं का भी संस्कृत व्याकरण के अध्ययन में बहुत बड़ा योगदान रहता है। पाठ के अंत में हम सरल संस्कृत वाक्य बनाएँगे।

This lesson is on the topic of Sanskrit Atmanepadi Verbs. In other words, it is also called the Middle Voice. The video presents a short list of some of the most important Sanskrit verbs. The verbs have their meaning in Hindi and the forms of Present, Past and Future tenses. A beginner must pay great attention in learning the Sanskrit verbs. In the end of the video, we have used simple Sanskrit sentences.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *