Sanskrit First Person | संस्कृत उत्तम पुरुष 10

The Sanskritam Grammar Course assures you that you can learn Sanskrit, the divine language of the gods, at home, via the easiest way possible.

Sanskrit First Person

Our primary aim is to shatter the myth that Sanskrit is a difficult language and can be accessed only with herculean labor. In the present lesson, we will study the First Person in Sanskrit Grammar.

The First Person includes I, WE TWO, and WE ALL. The pattern is same as in the Classical Greek Grammar and the Classical Latin Grammar. A lesson about Second person in Sanskrit has already been discussed and Sanskrit Second Person includes YOU, YOU TWO and YOU ALL. In the end, we make simple sentences.

Sanskritam is a unique Grammar Course of the Sanskrit Language, that is the easiest, and yet the most complete.

It claims to be the best and first attempt to present the Sanskrit Grammar in such a short form that amazes the audience. It makes the learner confident and eager to explore the language and literature.

It is based on the Ashtadhyayi of Panini, but presents the Sanskrit grammar in the easiest possible way. First of all, Sanskritam tries to show that Sanskrit is not at all, a difficult language.

It is systematic but based on a pattern, and if we catch this pattern, the learning of the Sanskrit Grammar becomes only a child’s play.

Once you go through the basics of Sanskrit Grammar, you are ready to start reading easy Sanskrit shlokas, poems, and pieces of Sanskrit literature.

संस्कृतम् अब तक का सबसे सरल व सम्पूर्ण संस्कृत व्याकरण कोर्स है। यह जिस सरलतम ढंग से संस्कृत व्याकरण को पेश करता है, वह पाठक को हैरान कर देता है।

उसमें आत्मविश्वास उत्पन्न करता है, और सीखने के प्रति चाव पैदा करता है। यह कोर्स महर्षि पाणिनी की अष्टाध्यायी पर आधारित है, किन्तु व्याकरण जैसे गंभीर विषय को जितना संभव हो सके, सरल ढंग से प्रस्तुत करता है।

हमारा पहला प्रयास ही यह है कि पाठक का यह भय निकाला जा सके कि संस्कृत एक कठिन भाषा है। यह भाषा किन्हीं सिद्धांतों पर काम करती है, और हमें बस इसकी जड़ को ही पकड़ना होता है, फिर संस्कृत व्याकरण सीखना केवल बच्चों का खेल मात्र हो जाता है।

एक बार जैसे ही आप संस्कृत व्याकरण के मूल नियमों से परिचित हो जाते हैं, तो आप संस्कृत के सरल श्लोक, कविताएं, कथा-कहानियाँ पढ़ने के लिए तैयार हो जाते हैं।

संस्कृतम् के सभी पाठ सुंदर चित्रों से सजाए गए हैं जो सीखने की क्रिया को सरल और स्मृति को दृढ़ता प्रदान करते हैं। प्रत्येक पाठ में किसी विशेष व्याकरण के खंड को लिया गया है, उसके नियमों की सरलतम व्याख्या के बाद बड़े सुंदर व आसान उदाहरण दिए गए हैं।

हमारे पाठकों को जो भी कुछ याद करना पड़ता है, उन सब चीजों की एक pdf file सभी videos के description में दे दी गई है ताकि उससे आपको याद करने में सहायता मिले।

हम आपको विश्वास दिलाते हैं, कि संस्कृतम् संस्कृत भाषाप्रेमियों के लिए वरदान है, यह उनको संस्कृत व्याकरण सीखकर संस्कृत भाषा को पढ़ने, लिखने और बोलने में शीघ्र ही समर्थ बना देगा।

संस्कृतम् आपकी सारी समस्याएँ दूर कर देगा। यह बात तो भूल ही जाइए कि संस्कृत कोई कठिन भाषा है। आप केवल थोड़ी सी रूचि लेकर देखें, संस्कृत व्याकरण से अधिक सरल कुछ भी नहीं। थोड़े से अभ्यास के बाद ही यह अनुभव होने लगता है। इस पाठ में हम उत्तम पुरुष का अध्ययन करेंगे। उत्तम पुरुष में मैं, हम दो, और हम सब – ये रूप शामिल हैं। और अंत में हम सरल संस्कृत वाक्य बनाएँगे।

संस्कृतम् एकम् अद्भुतम् सरलतमम् संस्कृतभाषायाः कोर्सम्। इदम् अतिसरलतया पाठकम् संस्कृतभाषाम् अध्यापयाति तत् पाठकाभ्याम् विस्मयकारकम्। संस्कृतम् पाठकस्य हृदये विश्वासम् जनयति, संस्कृतभाषां प्रति प्रेमम् चोत्पादायति। इदम् महर्षेः पाणिनेः अष्टाध्यायीग्रन्थसंयाोपरि आधारितम् किन्तु संस्कृतव्याकरणं सरलतमविधिना प्रस्तौति। अस्माकम् प्रथमं एव प्रयासम् इदम् यत् पाठकस्य हृदयात् भयम् दूरीकरणियम् संस्कृतव्याकरणविषयदुरुहताजन्यम्। यदि पाठकः संस्कृतव्याकरणस्य मूलम् गृह्णाति, तदा संस्कृतभाषायाः अधिगमम् केवलम् बालानाम् क्रीडामात्रम् अवशेषम्। संस्कृतभाषायाः मूलम् अधीत्य भवन्तः संस्कृतस्य सरलश्लोकान्, कविताः, कथाः पठितुम् समर्था भवन्ति। प्रत्येकम् पाठम् सुन्दरचित्रैः सुसज्जितम् यतः शिक्षणम् सरलम् भवति, स्मृतिः च सुदृढा जायते। यत्किंचित् भवद्भिः स्मरणियम् अस्ति, तत् सर्वम् पाठस्य अन्ते pdf file रुपेण दियते। संस्कृतम् संस्कृतभाषाप्रेमिभ्यः एकम् वरदानम् नात्र संशयः।

Leave a Reply

Your email address will not be published.